कृपया हमें अपने शहर का नाम बताएं

आपका शहर जानने से आपकी ज़रूरत के हिसाब से कॉन्टेन्ट देने में मदद मिलेगी

सॉरी! कोई मैचिंग रिजल्ट नहीं मिले. फिर से कोशिश करें.आपके लोकेशन का पता लगाने में त्रुटि

कुछ समय बाद इस ब्राउज़र को हमरा सपोर्ट बंद हो जाएगा। हम कहेंगे की अच्छे अनुभव के लिए आप कोई दुसरा ब्राउज़र उपयोग कीजिए। अधिक जानें

विज्ञापन

भारत में इलेक्‍ट्र‍िक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए उठाए गए प्रमुख क़दम

May 11, 2021, 10:38 PM IST by Nikhil Puthran
भारत में इलेक्‍ट्र‍िक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए उठाए गए प्रमुख क़दम

पिछले एक दशक से वैश्‍विक स्‍तर के ऑटोमेकर्स फ़्यूल के वैकल्‍पिक सोर्स के ऊपर काम कर रहे हैं। इसी सिलसिले में ऑटो निर्माताओं के सामने इलेक्‍ट्र‍िक मोब‍िलिटी एक बेहतर विकल्‍प के रूप में सामने आया है। भारत सरकार भी इसके पक्ष में है और देश के निर्माताओं को इस प्रदूषण रहित मोब‍िलिटी के प्रति प्रोत्‍साहित करने का काम लगातार कर रही है। आइए विस्‍तार से जानें, कि केंद्र सरकार ने इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स के विकास के लिए कौन से महत्‍वपूर्ण क़दम उठाए हैं:

अल्‍टरनेटिव फ़्यूल फ़ॉर सरफ़ेस ट्रांसपोर्टेशन प्रोग्राम (साल 2010 से 2012)

वर्ष 2021 में इस स्‍कीम के अंतर्गत नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) ने इलेक्‍ट्रि‍क वाहनों के लिए 20 प्रतिशत सब्‍सिडी को लागू किया गया था, जिसके अंतर्गत दो पहियों के लिए 5,000 रुपए, सात-सीटर तीन पहियों के लिए 60,000 रुपए, चार-सीटर पैसेंजर कार्स के लिए 1 लाख रुपए और बसों के लिए क़रीब 4 लाख रुपए के रेंज में उपलब्‍ध था। इस प्रोग्राम के लिए 95 करोड़ का कुल ख़र्च आया था। इसके लागू होने के बाद इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स की ब‍िक्री में वृद्धि‍ देखने को मिली। विशेष तौर पर इलेक्‍ट्र‍िक बाइक्‍स के सेग्‍मेंट के सेल्‍स में उछाल देखने को मिला। इस स्‍कीम में कम स्‍कोप और प्रमुख वाहनों को कवर ना करने जैसी ख़ामियों को देखते हुए कुछ समय के बाद गाड़‍ियों की ब‍िक्री में कमी आने लगी। 

नेशनल इलेक्‍ट्र‍िक  मोब‍िलिटी मिशन प्‍लान 2020 (एनईएमएमपी)

साल 2013 में बड़े उद्योग एवं सार्वजनिक उपक्रम मंत्रालय द्वारा नेशनल इलेक्‍ट्र‍िक  मोब‍िलिटी मिशन प्‍लान 2020 (एनईएमएमपी) को 14,000 करोड़ रुपए के ख़र्च पर भारत में इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स के इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर करने और बढ़ावा देने के लिए इसकी शुरूआत की गई थी। इस मिशन के अंतर्गत साल 2020 तक भारत में इलेक्‍ट्र‍िक व हाइब्रि‍ड वीइकल्‍स के सेल्‍स को 6 से 7 लाख रुपए तक पहुंचने की सम्‍भावना जताई गई। इससे भारत वैश्विक स्‍तर पर इलेक्‍ट्र‍िक मैन्युफ़ैक्चरिंग का मुख्‍य केंद्र बना हुआ है। इसी मि‍शन के तहत ही फ़ास्‍टर एडॉप्‍शन‍ एंड मैन्युफ़ैक्चरिंग ऑफ़ इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स (फ़ेम) स्‍कीम की शुरुआत की गई थी। 

फ़ेम-I स्‍कीम

1 अप्रैल 2015 बड़े उद्योग एवं सार्वजनिक उपक्रम मंत्रालय द्वारा फ़ास्‍टर एडॉप्‍शन‍ एंड मैन्युफ़ैक्चरिंग ऑफ़ इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स (फ़ेम) को 795 करोड़ रुपए के ख़र्च पर लॉन्‍च किया गया था। इस प्रोग्राम का मक़सद टेक्‍नोलॉजी इंडस्‍ट्री के साथ हाइब्रि‍ड और इलेक्‍ट्रि‍क वीइकल्‍स को बढ़ावा देना था। इस स्‍कीम का मुख्‍य ब‍िंदू आगामी सब्‍सिडी, पायलट प्रोजेक्‍ट्स के लिए रिसर्च व डवलपमेंट और चार्जिंग इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर को बेहतर करना था। इसके अतिरिक्‍त दो पहियों, तीन पहियों, सवारी गाड़ि‍यों, हल्‍के कमर्शि‍यल वीकल्‍स और बसों पर सब्‍सिडी को लागू करना था। 

फ़ेम-II स्‍कीम

1 अप्रैल 2019 को बड़े उद्योग एवं सार्वजनिक उपक्रम मंत्रालय द्वारा फ़ेम के दूसरे चरण को 10,000 करोड़ के बजट पर लॉन्‍च किया गया था। इसमें सब्‍सिडी को इलेक्‍ट्र‍िक कमर्शियल वीइकल्‍स, पब्‍लिक ट्रांसपोर्ट वीइकल्‍स और दो पहियों पर लागू किया गया था। यह फ़ेम-II स्‍कीम साल 2019 से 2022 तक तीन साल के लिए है। इस स्‍कीम में सिर्फ़ लिथि‍यम-आयन बैटरी या एड्वांस्ड पावर सोर्स वाले वाहन ही सरकार द्वारा दिए जा रहे लाभ के अंतर्गत शामिल होंगे। इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स चार्जिंग इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर योजना के तहत टीयर-1 शहरों में क़रीब 2,700 चार्जिंग स्‍टेशन्‍स को स्‍थापित करने की परियोजना तैयार की गई थी। इस योजना में इस बात का ध्‍यान रखा गया, कि स्‍टेशन 3 किमी x 3 किमी के ग्रि‍ड पर उपलब्‍ध हो। 

इन चार्जिंग स्‍टेशन को मुख्‍य हाइवेज़ पर स्‍थापित किया गया था, जिससे प्रमुख शहरों को जोड़ा जा सके। इन हाइवेज़ पर चार्जिंग स्टेशन्‍स को सड़क के दोनों तरफ़ 25 किमी की दूरी पर स्‍थापित करने की योजना तैयार की गई थी। इस स्‍कीम में जिन बसों की क़ीमत 2 करोड़ रुपए के अंदर हैं, वो 15 लाख रुपए तक प्‍लग-इन हाइब्रि‍ड्स के लिए, 5 लाख रुपए के अंदर के तीन पह‍िए और 1.5-लाख रुपए के अंदर दो पहिए इंसेंटिव पाने के अधि‍कारी होंगे। मिली जानकारी के अनुसार, टेस्‍टिंग एजेन्‍सीज़ द्वारा दिए गए फ़ेम-II सर्टिफ़ि‍केट और इलेक्‍ट्र‍िक वीइकल्‍स के अप्रूव्‍ड मॉडल्स मार्च 2021 तक वैध रहेंगे। इस स्‍कीम के तहत अप्रूव्‍ड मॉडल्स के वेलिडेशन (मान्‍यता) सर्ट‍िफ़‍िकेट को दोबारा जमा करना होगा, ताक़‍ि फ़ेम-II के स्‍कीम के इंसेंटिव का लाभ लि‍या जा सके। पिछले महीने नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने देश में कोरोना महामारी के चलते बचे हुए स्टॉक के लिए ओईएम्स की मदद करने के लिए फ़ेम-II सर्ट‍िफ़‍िकेशन की वैधता को बढ़ाया है।

देश में इलेक्‍ट्र‍िक वाहनों के रोडमैप के अलावा केंद्र सरकार स्‍मार्ट सिटी मिशन (साल 2015 में हुई लॉन्‍च), नेशनल मिशन ऑन ट्रांसफ़ॉर्मेटिव मोब‍िलिटी व बैटरी स्‍टोरेज (साल 2019 में अप्रूव्‍ड) और प्रोडक्‍शन-लिंक्‍ड इंसेंटिव स्‍कीम (वर्ष 2020 में लॉन्‍च) जैसे महत्‍वपूर्ण पहल पर लगातार काम कर रही है। 

अनुवाद: धीरज ग‍िरी 

  • टाटा
  • हुंडई
  • एमजी
  • कोना इलेक्ट्रिक
  • हुंडई कोना इलेक्ट्रिक
  • नेक्सन ईवी
  • टाटा नेक्सन ईवी
  • ज़ेडएस ईवी
  • एमजी ज़ेडएस ईवी
  • FaceBook Logo
  • Twitter Logo
  • Email Logo
Show CommentsHide Comments

Recommended News

टाटा नेक्सॉन ईवी को मिलेंगे नए अलॉय वील्स और अपडेटेड इंफ़ोटेन्मेंट सिस्टम

टाटा नेक्सॉन ईवी को मिलेंगे नए अलॉय वील्स और अपडेटेड इंफ़ोटेन्मेंट सिस्टम

टाटा नेक्सॉन ईवी को आईसीई पावर्ड नेक्सॉन बना दिया गया है। यानी अब इस मॉडल में बिना बटन और डायल वाला इंफ़ोटेन्मेंट सिस्टम होगा।

by Desirazu Venkat | Read more

सवारी गाड़‍ियों के ग्राहकों के लिए टाटा मोटर्स ने कोटक महिंद्रा प्राइम से मिलाया हाथ

सवारी गाड़‍ियों के ग्राहकों के लिए टाटा मोटर्स ने कोटक महिंद्रा प्राइम से मिलाया हाथ

टाटा मोटर्स ने कोरोना महामारी के इस चुनौतीपूर्ण दौर में सवारी गाड़‍ियों के ग्राहकों के लिए कोटक महिंद्रा प्राइम के साथ गठबंधन किया है। कोटक महिंद्रा प्राइम देश के सबसे...

by Dheeraj Giri | Read more

टाटा मोटर्स और टाटा पावर ने पुणे के प्लांट में सोलर कारपोर्ट को किया स्थापित

टाटा मोटर्स और टाटा पावर ने पुणे के प्लांट में सोलर कारपोर्ट को किया स्थापित

टाटा मोटर्स ने टाटा पावर के साथ मिलकर पुणे, महाराष्ट्र के चिखली में स्थित अपने प्रोडक्शन प्लांट में ग्रिड-सिंक्रोनाइज़्ड, बिहाइंड-द-मीटर सोलर कारपोर्ट की स्थापना की है।...

by Jay Shah | Read more

हालिया न्यूज़

रेनो ने भारत में ‘रुरल फ़्लोट’ मोबाइल शोरूम को किया लॉन्‍च

रेनो ने भारत में ‘रुरल फ़्लोट’ मोबाइल शोरूम को किया लॉन्‍च

रेनो ने भारत में नई पहल की शुरुआत की है, जिसे ‘रुरल फ़्लोट’ का नाम दिया गया है। इस पहल का मक़सद ग्रामीण क्षेत्रों के ग्राहकों से जुड़ना है। रुरल फ़्लोट पूरी तरह से एक...

by Aditya Nadkarni | Read more

नए डिज़ाइन और ज़्यादा फ़ीचर्स वाली रेनो डस्टर फ़ेसलिफ़्ट को किया गया शोकेस

नए डिज़ाइन और ज़्यादा फ़ीचर्स वाली रेनो डस्टर फ़ेसलिफ़्ट को किया गया शोकेस

अंतराष्ट्रीय बाज़ार में डेसिया डस्टर के नाम से जानी जाने वाली रेनो डस्टर में नए डिज़ाइन और ज़्यादा फ़ीचर्स को शामिल किया गया है। डेसिया ने ख़ुलासा किया है, कि नई डस्टर में...

by Nikhil Puthran | Read more

प्रचलित न्यूज़

नई हृयूंडे अल्काज़ार भारत में 16.30 लाख रुपए की शुरुआती क़ीमत पर हुई लॉन्च

नई हृयूंडे अल्काज़ार भारत में 16.30 लाख रुपए की शुरुआती क़ीमत पर हुई लॉन्च

यह मॉडल छह वेरीएंट्स और आठ रंग विकल्पों में उपलब्ध है। कंपनी ने इसकी बुकिंग्स पिछले हफ़्ते ही 25,000 रुपए के टोकन अमाउंट के साथ शुरू की थी।

by Aditya Nadkarni | Read more

नई महिंद्रा स्‍कॉर्पियो के इंटीरियर से उठा पर्दा, नई जानकारी आई सामने

नई महिंद्रा स्‍कॉर्पियो के इंटीरियर से उठा पर्दा, नई जानकारी आई सामने

नई जनरेशन महिंद्रा स्‍कॉर्पियो एक बार फिर टेस्‍टिंग के दौरान देखी गई है। इस बार इसके डैशबोर्ड से जुड़ी स्‍पाई तस्‍वीरें सामने आई हैं। मौजूदा मॉडल की तुलना में यह नया...

by Nikhil Puthran | Read more

विज्ञापन
  • आगामी कार्स

नई कार ख़रीद रहे हैं?एक मिस्ड कॉल छोड़ें1800 2090 230(टोल फ्री)

ऑफर्स के लाभ के लिए अपना शहर चुनें

फ़िलहाल सिर्फ़ यहां उपलब्ध